Nafas ki gazlen

Welcome to the wonder world of Urdu literature

Wednesday, June 20, 2012

वो मेरा दोस्त है और मुझसे वास्ता भी नहीं
जो कुर्बतें भी नहीं हैं तो फासला भी नहीं

किसे खबर थी की उस दश्त से गुज़ारना है
जहां से लौट के आने का रास्ता भी नहीं

कभी जो फूट के रो ले तो चैन पा जाए
मगर ये दिल मिरे पैरों का आबला भी नहीं

सुना है वो भी मिरे क़त्ल में मुलव्वस है
वो बेवफ़ा  है मगर इतना  बेवफ़ा  भी नहीं

वो सो सका न जिसे छीन  कर कभी मुझसे
मैं उस ज़मीन के बारे में सोचता भी नहीं

ये रेगज़ार मिरी ज़ीस्त का मुक़द्दर हैं
नज़र की हद कहीं कोई काफ़िला भी नहीं

सुना था शहर में हर सू तुम्हारा चर्चा है
यहाँ तो कोई "नफ़स" तुमको जानता भी नहीं

------------------------  नफ़स अम्बालवी 

कुर्बतें=नज़दीकियाँ ; दश्त=जंगल; आबला=छाला; 
मुलव्वस=शामिल; रेगज़ार=रेगिस्तान; ज़ीस्त=ज़िन्दगी 

wo mera dost hai aur mujhse waasta bhi nahin
jo qurbaten bhi nahin hain to faasla bhi nahin

kise khabar thi ki us dasht se guzarna hai
jahaan se lout ke aane ka raasta bhi nahin

kabhi jo phoot ke ro le to chain paa jaaye
magar ye dil mere pairon ka aablaa bhi nahin

suna hai wo bhi mere qatl men mulavvas hai
wo bewafa hai magar itna bewafa bhi nahin

wo so sakaa na jise cheen kar kabhi mujh se
main us zameen ke baare men sochta bhi nahin

ye regzaar meri zeest ka muqaddar hain
nazar ki had men kahin koi qaafila bhi nahin

suna tha shahr men har su tumhaara charcha hai
yahaan to koi "nafas" tumko jaanta bhi nahin

----------------------------  Nafas Ambalvi

No comments:

Post a Comment